Sunday, March 27, 2011

32 bit और 64 bit कंप्यूटर में अंतर

32 bit और 64 bit विन्दोव्स में क्या अंतर है. जो सबसे बड़ा अंतर है वो है RAM का. 32 bit में maximum RAM का लिमिट है - 4 GB का जबकि 64 bit में आप maximum usable RAM लिमिट है - 8Tb (128 GB , 64 bit Vista में , और 192GB , विन्दोव्स 7 में). लेकिन यही एक अंतर नहीं जिसे ध्यान में रखना चाहिए नया PC लेते वक़्त. इसके अलावा भी बहुत सारी चीजे ध्यान में रखनी चाहिए. यहाँ में मैं लगभग उन सारी बातो पर रोशनी डालूँगा जो आपको पूरी आईडिया बताएगी की दोनों में क्या क्या अंतर होता है.

१. Basic : एक और जो सबसे बड़ा अंतर होता है वो है सिस्टम का - “Addressable Space”. कभी सोचा है की क्यों 32 bit में maximum RAM का लिमिट है - 4 GB का जबकि 64 bit में आप maximum उसबले RAM लिमिट है - 8Tb . आखिर इसका कारन क्या है. और वो होता है - “Addressable Space” के चलते. हर सिस्टम को एक लिमिटेड “Addressable Space” दिया जाता है जो पूरी तरह उसके hardware पर depend होता है. जितना ज्यादा आपके सिस्टम में hardware होगा उतना ही “Addressable Space” alloted होगा.

अब RAM को बाकि बचा हुआ मिलेगा. यही कारन है की 32 Bit के सिस्टम में 4 GB का RAM डालने के वावजूद 3.52 GB RAM ही दिखता है.

आजकल के ज्यादातर सॉफ्टवेर 32 bit के लिए ही बने होते है. इसका मतलब है की यहाँ पर एक बहुत ही ज्यादा पर्फोर्मांस बढ़ने की संभावना नहीं है अगर आप 32 से 64 बीत पर स्विच करते है.

२. Operating system :

32 Bit OS
एक 32 bit के OS केवल 4 GB RAM को support कर सकता है. अब “Addressable Space” के चलते इसको 3 .52 GB ही RAM मिल रहा है. अब फिर से “Addressable Space” प्रोग्राम पर भी apply होता है. जिससे की वह किसी एक प्रोग्राम को एक लिमिट से ज्यादा RAM allot नहीं कर सकता. मतलब जैसे की 32 bit Photoshop को वह 2 GB राम से ज्यादा access करने नहीं दे सकता. इस तरह 3 .52 GB RAM होते हुए भी आप केवल 32 bit Photoshop में 2 GB RAM का ही यूज़ कर सकते है. एक 32 बीत सिस्टम को चलने के लिए कम memory requirement की जरुरत होती है जबकि 64 bit को चलाने के लिए ज्यादा memory requirement होती है. जैसे की 32 bit Windows 7 को मिनिमम 1 GB.

64 Bit OS
एक ६४ Bit OS का “Addressable Space” 8Tb RAM (128 GB , 64 bit Vista में , और 192GB , विन्दोव्स 7 में) का होता है. जबकि 32 Bit में ये लिमिट 2 GB का होता है. इसका मतलब ये OS किसी प्रोसेस को चलाने के लिए 8Tb RAM (128 GB , 64 bit Vista में , और 192GB , विन्दोव्स 7 में) तक allot कर सकता है. हालाँकि यह मेरा जाती मानना है की 2 GB RAM किसी प्रोसेस को चलाने के लिए काफी है. यहाँ पर एक और बात की 32 Bit का ड्राईवर बहुत आसानी से मिल जाता है जबकि 64 बीत थोडा मुश्किल से.

३. अन्य : कुछ लोगो का मानना है की एक बहुत बड़ा मुद्दा है - Non-compatibility का. 64 bit and 32 bit के प्रोग्राम एक दुसरे के साथ compatible नहीं हो सकते यानि नहीं चल सकते. लेकिन ये बात बेवजह है. Microsoft अपने OS को Hybrid architecture (Windows In Windows, or WoW) के साथ लिखती है जिसपर 64 bit and 32 bit दोनों के प्रोग्राम आसानी से चल सकते है. इसलिए आपको घबराने की जरुरत नहीं है की अगर आप 64 bit का PC लेते है तो उसपर 32 bit का प्रोग्राम चलेगा की नहीं. लेकिन फिर सिस्टम पर्फोर्मांस पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. क्युकी ज्यादातर प्रोग्राम अभी 32 बीत पर लिखे गए है और उन्हें 2 GB से ज्यादा RAM नहीं चाहिए.

फायदे 64 बीत PC लेने के:
जो प्रोग्राम 64 बीत पर लिखे गए है वो बेहतर पर्फोर्मांस देते है 32 bit के मुकाबले (जैसे की 64 bit Photoshop). क्युकी इसमे ज्यादा RAM allocate होता है.
ज्यादा RAM का आप्शन होता है.
ज्यादा “Addressable Space” होता है.

घाटे 64 बीत PC लेने के:
बहुत सरे प्रोग्राम अभी भी 32 बीत पर बनाते है.
32 bit का प्रोग्राम होने के चलते उन्हें minimum 2 GB RAM ही चाहिए होता है. अतः ज्यादा RAM बाधा के भी कोई फायदा नहीं.
चलने के लिए bit processor की जरुरत होती है.
ड्राईवर खोजना अभी भी मुश्किल काम.

सारांश: अंत में मैं यही कहूँगा की अगर आप future को देख कर चल रहे है तो 64 bit ज्यादा अच्छा है. main पिछले २ साल से 64 बीत यूज़ कर रहा हु और हां मुझे बहुत सारी प्रॉब्लम आती है लेकिन फिर भी ये अच्छा है. लेकिन अगर आप 4 GB से निचे का RAM वाला PC लेना चाहते है तो अच्छा है की 32 bit ले.

मैं आशा करता हु की मेरे द्वारा दी गयी जानकारिया आपको लैपटॉप खरीदने में मदद करेंगी.

नोट: Windows 7 retail edition २ DVD पैक में आ रही है - एक 32 bit और dusara 64 bit .अआप जिसमे चाहे उसमे इन्स्टाल कर लेकिन key एक के लिए ही valid है.
aaj के time के हिसाब se ६४ bit ही लेना चाहिए क्योंकि ६२ bit processor पर आप ३२ bit ओपेरातिंग सिस्टम इन्स्टाल कर सकते है ! इसीलिए बिंदास होकर ६४ bit मशीन खरीदिये ! फिर चाहे उस पर ३२ bit या ६४ bit operating system उसे करें !

4 comments:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , हिंदी ब्लॉग लेखन को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सार्थक है. निश्चित रूप से आप हिंदी लेखन को नया आयाम देंगे.
    हिंदी ब्लॉग लेखको को संगठित करने व हिंदी को बढ़ावा देने के लिए "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की स्थापना की गयी है, आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  2. स्वागत है आपका हिन्दी ब्लाग जगत की इस मनोरम दुनिया में...

    मनोरंजक चित्र, शिक्षाप्रद लघुकथाएँ और उत्तम विचारों से परिपूर्ण जिन्दगी के रंग में देखिये-
    निरन्तरता का महत्व (लघुकथा)

    निरोगी शरीर सुखी जीवन का आधार : स्वास्थ्य सुख में देखिये-
    बेहतर स्वास्थ्य की संजीवनी- त्रिफला चूर्ण

    ReplyDelete
  3. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    दूर रहें इस सोच से - मुझसे नहीं होगा !

    ReplyDelete